मैनें किसी के चाँदी, सोने या कपड़े का लालच नहीं किया

पौलुस की जीवनी का एक छोटा अंश जिसमें उसने अपनी आत्म-कथा या गवाही लिखी है। प्रेरितों के काम २०

अपनी तीसरी सुसमाचार यात्रा के अंत में वो यरुशलम को जा रहा है।

इफिसुस की कलिसिया से कहा, मैं हर समय तुम्हारे साथ किस प्रकार रहा?

  • बड़ी दीनता से आँसू बहा बहाकर परीक्षाओं में यहुदिओं के षड्यंत्र के बीच में सेवा करता ही रहा।
  • लोगों के सामने और घर-घर में तुम्हारे लाभ की बातें सिखाने से ना झिझका।
  • यहुदिओं और यूनानिओ के सामने गवाही देता रहा कि परमेश्वर की ओर मन फिराना और हमारे प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास करना चाहिए।

मैं आत्मा में बँधा हुआ यरुशलेम को जाता हूँ, क्या-क्या मुझ पर बीतेगा मैं यह नहीं जानता हूँ।

पवित्र आत्मा हर नगर में गवाही दे देकर मुझ से कहता है कि बंधन और क्लेश तेरे लिए तैयार हैं।

मैं अपने प्राण को कुछ नहीं समझता हूँ कि उसे प्रिय जानूँ। मैं तो उस दौड़ को और उस सेवा को पूरी करना चाहता हूँ, वो सेवा जो मैनें परमेश्वर के अनुग्रह के सुसमाचार पर गवाही देने के लिए प्रभु यीशु से पाई है।

तुम्हारे बीच में परमेश्वर के राज्य का प्रचार करता फिरा। मैं सब के लहू से निर्दोष हूँ।

परमेश्वर के सारे अभिप्राय को तुम को बताने से मैं नहीं झिझका इसलिए तुम परमेश्वर की कलीसिया की रखवाली करो जिसे उसने अपने लहू से मोल लिया है।

मेरे जाने के बाद फाड़ने वाले भेड़िए आएँगे जो झुंड को ना छोड़ेंगे। तुम्हारे अपने बीच में भी ऐसे ऐसे लोग उठेंगे जो चेलों को अपने पीछे खींच लेने के लिए टेड़ी मेड़ी बात कहेंगे। तुम इसलिए जागते रहो और याद करो कि मैनें तीन वर्ष तक रात और दिन आँसू बहा-बहाकर हर एक को चुनौती देना नहीं छोड़ा।

अब मैं तुम्हें परमेश्वर के और उसके अनुग्रह के वचन के हवाले करता हूँ। वह तुम्हें उन्नति और मीरास जो पवित्र लोगों के लिए है दे सकता है। मैनें किसी के चाँदी सोने या कपड़े का लालच नहीं किया, इन्ही हाथों ने मेरे और मेरे साथियों की ज़रूरतें पूरी की यह तुम जानते हो।

मैनें तुम्हें सब कुछ करके दिखाया। परिश्रम करते हुए निर्बलों को संभालना चाहिए

लेने से देना धन्य है – प्रभु यीशू के इस वचन याद रखना ज़रूरी है।

और हाँ अब फिर तुम मेरा मुँह नहीं देखोगे।
पौलुस ने यह कहकर घुटने टेके प्रार्थना करी और वे सब गले मिलकर बहुत रोए।

शिष्य थॉमसन